Ummed ki dhal liye betha hu

[Translate] उलझनों और कश्मकश में, उम्मीद की ढाल लिए बैठा हूँ। ए जिंदगी! तेरी हर चाल के लिए, मैं दो चाल लिए बैठा हूँ | लुत्फ़ उठा रहा हूँ मैं भी आँख – मिचोली का। मिलेगी कामयाबी, हौसला कमाल का … Continue reading