Vo apne

वो अपने ही होते हैं जो लफ्जों से मार देते हैं…..
वरना गैरों को क्या खबर के दिल किस बात पे
दुखता ह