maa ka aanchal 

​माना सजना प्यारे हैं पर उससे पहले भी दुनिया थी  पापा की उंगली थामे कभी तू छुटकी मुनिया थी  गुड्डे-गुड्डी का खेल तुझे भी जग में सबसे प्यारा था भाई कोने में सिसक रहा जो कभी आँख का तारा था … Continue reading

bachpan

​उम्र ने तलाशी ली,  तो जेबों से लम्हे बरामद हुए.. कुछ ग़म के,  कुछ नम थे,  कुछ टूटे,  बस कुछ ही सही सलामत मिले  “जो बचपन के थे..”

Thoda sabra kar

​अच्छे दिन बदल गए, तो बुरे दिन भी बदल जाएँगे … थोड़ा धीरज रख तू, सारे हालात संभल जाएँगे … या तो बरस जाने दे बादल, या हवा का इन्तजार कर शांति से … असीमित गम के बादल, सुख की … Continue reading

makar sakranti

​*मौका संक्रांति का था..* *ओर जिक्र तिल का चला..* 💕 *जो गुड़ पे लगा वो गजक हो गया..* *और जो गाल पर लगा तो गजब हो गया।।* 💕 a @Ashu@ … Continue reading