Mitti ka jism

मिट्टी का जिस्म लेके पानी के घर में हूँ, मंजिल है मैरी मौत, मैं हर पल सफर में हूँ, होना है मेरा कत्ल, ये मालूम है मुझे, लेकिन खबर नहीं कि मैं किसकी नज़र में हूँ

Din vo nahi rahe

पहले तो बहुत शोख था तुम्हे,     मेरा हाल पुछने का .. !!??           तो बताओ              अब क्या हुआ ,,,                  हम वो नही रहे                    या                      दिन वो नही रहे…………. !!?

Din vo nahi rahe

पहले तो बहुत शोख था तुम्हे,     मेरा हाल पुछने का .. !!??           तो बताओ              अब क्या हुआ ,,,                  हम वो नही रहे                    या                      दिन वो नही रहे…………. !!?

Nazro ke tir

उनकी नज़रों के तीर—-> तो बस हमारी जान लेने का बहाना था,,! दिल (¯`v´¯)         `•.¸.•´ हमारा बिखर गया तो वो बोली वाह! क्या निशाना था 💖💘💞💘💖💘💞💘💖