Sapne mai

सपने मे अपनी मौत को करीब से देखा….😓

कफ़न में लिपटे तन जलते अपने शरीर को देखा…..😭

खड़े थे लोग हाथ बांधे एक कतार में…

कुछ थे परेशान कुछ उदास थे …..

पर कुछ छुपा रहे अपनी मुस्कान थे..

दूर खड़ा देख रहा था मैं ये सारा मंजर…..

…..तभी किसी ने हाथ बढा कर मेरा हाथ थाम लिया ….

और जब देखा चेहरा उसका तो मैं बड़ा हैरान था…..

हाथ थामने वाला कोई और नही…मेरा भगवान था…

चेहरे पर मुस्कान और नंगे पाँव था….

जब देखा मैंने उस की तरफ जिज्ञासा भरी नज़रों से…..

तो हँस कर बोला….
“तूने हर दिन दो घडी जपा मेरा नाम था…..
आज प्यारे उसका क़र्ज़ चुकाने आया हूँ…।”

रो दिया मै…. अपनी बेवक़ूफ़ियो पर तब ये सोच कर …..

जिसको दो घडी जपा
वो बचाने आये है…
और जिन मे हर घडी रमा रहा
वो शमशान पहुचाने आये है….

तभी खुली आँख मेरी बिस्तर पर विराजमान था…..
कितना था नादान मैं हकीकत से अनजान था….
www.shayaridilse.com

Vaqt

🌹सुना था लोगो से के वक्त बदलता है अक्सर,

मगर लोग भी बदलते है ये वक्त ने बताया ..🌹

Naam uska

नाम उसका जुबाँ पर, आते आते रुक जाता है…..!!

जब कोई मुझसे मेरी, आखरी ख्वाहिश पूछता है…..!!

Happy rakhsa bandhan

🌸🌻🌸🌻🌸🌻🌸🌻
कैसी भी हो एक
बहन होनी चाहिये……….।
.
बड़ी हो तो माँ- बाप से बचाने वाली.
छोटी हो तो हमारे पीठ पिछे छुपने
वाली……….॥
.
बड़ी हो तो चुपचाप हमारे पाँकेट मे पैसे रखने
वाली,
छोटी हो तो चुपचाप पैसे निकाल लेने
वाली………॥
.
छोटी हो या बड़ी,
छोटी- छोटी बातों पे लड़ने
वाली,एक बहन होनी चाहिये…….॥
.
बड़ी हो तो ,गलती पे हमारे कान
खींचने वाली,
छोटी हो तो अपनी
गलती पर, साँरी कहने
वाली…
खुद से ज्यादा हमे प्यार करने वाली एक बहन
होनी चाहिये…. ….॥
रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाए
🌸🌻🌸🌻🌸🌻🌸🌻🌸

image

Jamane mai dost

रहता हूं किराये की काया में…

रोज़ सांसों को बेच कर किराया चूकाता हूं….

मेरी औकात है बस मिट्टी
जितनी…

बात मैं महल मिनारों की कर जाता हूं…

जल जायेगी ये मेरी काया ऐक दिन…

फिर भी इसकी खूबसूरती
पर इतराता हूं….

मुझे पता हे मे खुद के सहारे  श्मशान तक भी ना जा सकूंगा…

इसीलिए जमाने में दोस्त बनाता हूँ ..

Smile always

:)मुस्कुराओ….. क्योंकि परिवार में रिश्ते तभी तक कायम रह पाते हैं जब तक हम एक दूसरे को देख कर मुस्कुराते रहते है”
:)मुस्कुराओ…. क्योंकि यह मनुष्य होने की पहली शर्त है। एक पशु कभी भी नहीं मुस्कुरा सकता।”
:)मुस्कुराओ….. क्योंकि दुनिया का हर आदमी खिले फूलों और खिले चेहरों को पसंद करता है।”
:)मुस्कुराओ….. क्योंकि क्रोध में दिया गया आशीर्वाद भी बुरा लगता है और मुस्कुराकर कहे गए बुरे शब्द भी अच्छे लगते